व्यापार में तरक्की पाने का अचूक मंत्र

व्यापार में तरक्की पाने के लिए यह मंत्र अत्यंत प्रभावशाली है. इससे आपको व्यापार में काफी सफलता मिलेगी. जब भी आप दुकान खोलते है या अपना व्यापारिक काम शुरू करते है तो सबसे पहले इस मंत्र का जाप करना चाहिए. इस मंत्र का जाप आपको 108 बार करना चाहिए. उसके बाद अपने व्यापार का दैनिक कार्य प्रारम्भ करे. इससे आपकी उस दिन की बिक्री बढ़ जाएगी. इस मंत्र का प्रभाव आपको तुरंत देखने को मिलता है.

व्यापार तरक्की मंत्र

इस मंत्र के जाप से आपका व्यापार तरक्की के आसमान को छू लेगा. यह मंत्र बहुत प्रभावशाली है. अपने दुकान की गद्दी पर बैठ कर इस मंत्र का जाप करने से इसका प्रभाव अधिक होता है और धन की प्राप्ति होती है. आपका ज्यादा समय न लेते हुए हम आपको इस मंत्र से अवगत कराते है यह मंत्र इस प्रकार है.

ॐ श्रीं श्रीं श्रीं परम सिद्धि व्यापार वृद्धि नमः।।

यह मंत्र आपके व्यापार की सफलता के लिए है इसलिए आपको इस मंत्र का उच्चारण सही ढंग से करना होगा. तभी आपको इसका लाभ मिलेगा. इस मंत्र को जाप करने के कुछ नियम है नियमानुसार मंत्र जाप करने पर इसका लाभ अधिक होता हैं.

व्यापार तरक्की मंत्र जाप की विधि

एक नारियल लीजिए और उसे एक लाल कपड़े में बाँध दीजिए. इसे गेहूँ के आसन पर स्थापित कीजिए और इस पर सिंदूर का तिलक करें. अब मूंगे की माला लीजिए और ऊपर लिखे मंत्र का जाप कीजिए. 21 माला जाप हो जाने पर इस पोटली को दुकान में किसी ऐसे स्थान पर रख दे या टांग दें, जहाँ पर ग्राहकों की नज़र पड़ती रहे. इससे व्यापार में सफलता मिलने के योग बन सकते हैं.

जितना भी आप से बन पड़े उतना मन ही मन अपनी दुकान की गद्दी पर बैठे-बैठे इस मंत्र का जाप करते रहें. ऐसा करना लाभदायक होता है.

व्यापार तरक्की मंत्र के लाभ

यह मंत्र इतना शक्तिशाली है कि आपके व्यापार में आपको अपार सफलता दिला सकता है. आईए इससे होने वाले लाभों के बारे में आपको जानकारी देते है.

  • इस मंत्र के जाप से आपके व्यापार में सफलता के योग बनते है.
  • इस मंत्र का रोज 108 बार जाप करने से आपको धन लाभ होता है.
  • जल्द ही आपका व्यापार तरक्की के आसमान को छू लेगा.
  • इससे आपके व्यापार में बिक्री बढ़ जाएगी.

व्यापार तरक्की के रामबाण उपाय

व्यापार तरक्की मंत्र के अलावा और उपाय है जिन्हे कर के आप अपने व्यापार में सफलता हासिल कर सकते है. यह उपाय भी अत्यंत लाभदायक होते है. ये उपाय इस प्रकार से है.

व्‍यापार मंदा है क्या करें?

यदि आपका व्‍यापार ठीक नहीं चल रहा है या मंदा चल रहा है. तो शुक्ल पक्ष के किसी भी दिन से आप यह उपाय शुरू कर सकते हैं. आपको सिर्फ अपने व्यापारिक स्थल के दरवाजे के बाहर की ओर दोनों तरफ एक–एक मुट्ठी गेहूँ का आटा डालना है. ध्‍यान रखिए यह उपाय आपको लगातार 1 माह 13 दिनों तक करना होगा. ऐसा करने से आपके व्‍यापार में लाभ होने के योग बनते हैं.

व्यापार में परेशानियाँ आ रही है क्या करें?

यदि आपके व्‍यापार में कोई भी समस्‍या आ रही है तो आप किसी ऐसे व्यक्ति के यहाँ शनिवार के दिन जाए. जो कारोबार में सफल हो. उस व्यापारी के यहाँ से शनिवार के दिन कोई भी लोहे की वस्तु अपने यहाँ ले आए. उसके बाद आपके व्यापारिक स्थल पर किसी भी जगह हल्दी का एक स्वास्तिक बनाए. फिर उस पर थोड़ी सी काली वाली साबुत उड़द रखें और इसके ऊपर वह लोहे की वस्तु रखें जो आप व्‍यापारी के यहाँ से लेकर आए हों. इसके बाद आपके भी व्यापार में तरक्‍की होने लगेगी.

व्यापार में नुकसान हो रहा है क्या करें?

यदि आपके व्यापार में लगातार कोई नुकसान हो रहा हो या हमेशा लड़ाई-झगड़ा चलता रहता हो तो ये उपाय कीजिए. अपने वजन के बराबर कच्चा कोयला लें. उसको शनिवार के दिन बहते हुए पानी में डाल दीजिए. व्यापार में लगातार हो रहे नुकसान से आपको छुटकारा मिल जाएगा और आपके व्यापार में तरक्की होगी.

व्यापार की बिक्री बढ़ानी है क्या करें?

यदि आपके व्यापार में बिक्री में नुकसान हो रहा है तो ऐसी अवस्था में बिक्री बढ़ाने के लिए शुक्ल पक्ष के पहले शुक्रवार को पाँच गोमती चक्र लें. उसके बाद इसे लाल कपडे में बांधकर अपनी दुकान की चौखट पर बांध दें एवं उसके बाद ईश्‍वर से अपने व्यवसाय की बिक्री बढ़ाने के लिए प्रार्थना करें.

कर्मचारी स्थिर नहीं हो रहे है क्या करें?

अगर आपके कार्यालय या व्‍यवसाय में कर्मचारी काम छोड़ कर चले जाते है. तो किसी भी शनिवार को रास्‍ते में पड़ी हुई कील को उठा लीजिए. उसके बाद इसे भैंस के मूत्र से धो लीजिये और अपने व्यवसायिक स्थल पर गाड़ दीजिए. उसके बाद देखिए कि किस तरह से कर्मचारी पूरी निष्‍ठा और लगन के साथ कार्य करने लगेगें एवं आपको आपके व्यापार में लाभ भी मिलेगा.

Leave a Comment