शीघ्र विवाह होने का शाक्तिशाली और अचूक मंत्र। विधि, लाभ, और सावधानियां

परम पिता परमेश्वर ने जब सृष्टि की रचना की तो उन्होंने हर सजीव प्राणी के लिए नर और मादा की भी रचना की ताकि उन दोनों के मिलन से उनकी सजीव प्रजाति का विकास हो सके. भगवान ने सजीव प्राणियों में से इंसानों को सबसे ऊंचा स्थान दिया है क्योंकि उनकी रचनाओं में उनकी सबसे प्यारी रचना इंसान ही है.

पर कई अनिश्चित कारणों की वजह से की कुछ लोगों के जीवन में शादी संबंधित समस्याएं आती रहती है. कई लोगों की तो तय शादियां भी टूट जाती है. लोगों की उम्र 35-40 की हो जाती है फिर भी विवाह का संयोग नहीं बन पाता. इसके पीछे का मुख्य कारण ग्रह दोष होता है. इस लेख में हम आपको एक ऐसे अचूक मंत्र के बारे में बताएंगे जिसके विधि पूर्वक जाप से निश्चित ही यह समस्या दूर हो जाएगी. यह मंत्र प्रभावशाली है और हजारों लोगों पर आजमाया जा चुका है. इस मंत्र के जाप की विधि और जाप के दौरान ली जाने वाली सावधानियों के बारे में भी विस्तार से बताया जाएगा.

शीघ्र विवाह होने का मंत्र

इस अचूक मंत्र का जाप करना सरल है और इसके जाप के लिए किसी विशेष तैयारी की आवश्यकता भी नहीं होती. बस जाप के दौरान कुछ सावधानियां रखने की आवश्यकता होती है जिसके बारे में हम आपको आगे इस लेख में बताएंगे. आईए अब आपका ज्यादा समय ना लेते हुए इस मंत्र के बारे में बताते हैं. मंत्र इस प्रकार से है:

लड़की के लिए मंत्र:

हे गौरि शंकरार्धांगि यथा त्वं शंकरप्रिया।
मां कुरु कल्याणि कान्तकातां सुदुर्लभाम्॥

लड़के के लिए मंत्र:

पत्नीं मनोरमां देहि मनोवृत्तानुसारिणीम्।
तारिणीं दुर्गसंसारसागरस्य कुलोद्भवाम्।।

यह मंत्र सरल होने के साथ-साथ प्रभावशाली भी है. इसका विधि पूर्वक और सावधानियों के साथ जाप करने से विवाह में आने वाली सारी अड़चनें और बाधाएं नष्ट हो जाती है. आगे इस लेख में इसके लाभ और जाप के दौरान ली जाने वाली सावधानियों के बारे में चर्चा करेंगे.

इस मंत्र के लाभ

जैसा कि हमने पहले ही बताया कि यह एक अचूक मंत्र है. यह मंत्र विवाह में आने वाली बड़ी से बड़ी बाधाओं को नष्ट करने की क्षमता रखता है. आईए अब आपको इस मंत्र से होने वाले लाभों के बारे में जानकारी देते है.

इस मंत्र के जाप से होने वाले लाभ

  • महिला और पुरुष दोनों के लिए अलग-अलग मंत्र है.
  • यह मंत्र 15 दिनों के अंदर अपना प्रभाव दिखाना शुरू करता है.
  • विवाह में बाधा उत्पन्न करने वाले ग्रह शांत हो जाते है.
  • शीघ्र ही नए रिश्ते आने लगते है.
  • इस मंत्र के जाप से विवाह एक अच्छे और संस्कारी परिवार में होता है.
  • विवाह ऐसे पुरुष या महिला से होती है जिसका व्यवहार और सोच एक दूसरे से मिलते हो.
  • यदि महिला इस मंत्र का जाप करती है और उसकी शादी में पैसे संबंधित बाधाएं आ रही हो तो वो भी दूर हो जाती है.

मंत्र जाप की विधि

यह मंत्र प्रभावशाली तो है पर इसका जाप विधि पूर्वक करने से ही लाभ मिलता है. यदि नियम का पालन ना किया गया तो यह मंत्र लाभ नही देता. आईए आपको इस मंत्र के जाप की विधि की जानकारी देते है.

मंत्र जाप की विधि

  • मंत्र जाप मां दुर्गा की मूर्ति या तस्वीर के सामने करनी चाहिए.
  • प्रतिदिन 10 मालाओं का जाप करना है.
  • रक्त चंदन की माला का प्रयोग करना है.
  • मंत्र का जाप 11 दिनों तक करना है.
  • मंत्र जाप से पहले स्नान करना अनिवार्य है.
  • साफ और शुद्ध वस्त्र धारण करके मंत्र जाप करें.
  • वैसे तो मंत्र का जाप कभी भी किया जा सकता है लेकिन प्रातः काल उचित माना जाता है.
  • इन 11 दिनों तक मांस या मदिरा का सेवन नहीं करना है.
  • 11 दिन पूरे होने पर थोड़ा दान पुण्य का कार्य करें और 5 ब्राह्मणों को भोजन कराएं.

नोट: इस मंत्र का अति शीघ्र लाभ पाने के लिए केले के पेड़ के सामने मंत्र जाप किया जाता है. ऐसा अनिवार्य नहीं है पर यदि व्यवस्था बन पा रही हो तो केले के पेड़ के सामने मंत्र जाप करें.

हमारे शब्द

यह मंत्र अचूक और प्रभावशाली है. उचित विधि से जाप करने पर विवाह में आने वाली सारी अड़चनें दूर हो जाती है. हजारों लोगों ने इसका लाभ उठाया है. बस मंत्र जाप विधि पूर्वक होना चाहिए. मां दुर्गा या केले के पेड़ के सामने मंत्र का जाप करना चाहिए.

आशा है कि शीघ्र विवाह मंत्र पर लिखा गया हमारा यह लेख आपको पसंद आया होगा. इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment