कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र। मंत्र, विधि, फायदे, और सावधानियां

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र एक ऐसा अनमोल मंत्र है जिसका प्रयोग अगर उचित विधि और नियम के अनुसार किया जाए तो स्त्री आपके साथ कुछ भी करने को बाध्य हो जाती है. इस लेख में हम आपको इस मंत्र के प्रयोग की संपूर्ण विधि बताएंगे और साथ में इस मंत्र को सिद्ध करने के दौरान ली जाने वाली सावधानियों के बारे में भी सम्पूर्ण जानकारी देंगे.

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र

इस मंत्र में इतनी शक्ति है कि जिस स्त्री पर इसका प्रयोग किया जाता है वो आपके कदमों में आकर गिर जाती है और आपके लिए पूरी तरह से समर्पित हो जाती है. बस इस बात का ध्यान रहना चाहिए कि मंत्र को उचित विधि द्वारा सिद्ध करें. थोड़ी सी भी चूक आपके परिश्रम पर पानी फेर सकती है. मंत्र इस प्रकार से है:

ॐ क्लीं कामदेवाय (अमुकी)
मम वश्यं कुरु कुरु फट स्वाहा ।।

मंत्र में अमुकी के स्थान पर उस स्त्री का नाम लेना है जिसके लिए आप यह मंत्र सिद्ध कर रहे हैं.

इस मंत्र का उच्चारण ही सबसे प्रमुख है. इसका प्रयोग करना बहुत ही सरल है. आगे इस लेख में हम आपको इसे सिद्ध करने की विधि, फायदे, और सावधानियों के बारे में जानकारी देंगे.

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र सिद्ध करने की विधि

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र को सिद्ध करना सरल है. इसके लिए विशेष तैयारी की आवश्यकता नहीं होती है. पर इसे सिद्ध करने की जो विधि है उसका अच्छे से अनुसरण करने से ही उचित फल की प्राप्ति होती है. आईए आपको इसे सिद्ध करने की उचित विधि की जानकारी देते है.

आसन

वैसे कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र को सिद्ध करने के लिए किसी विशेष आसन की आवश्यकता नहीं होती पर कुश या ऊन से बने आसन का प्रयोग करना अच्छा माना जाता है. यह ध्यान रहे कि आसन साफ और शुद्ध होना चाहिए. अगर आसन ना हो तो फर्श पर बैठकर भी मंत्र जाप किया जा सकता है. अगर फर्श पर बैठकर मंत्र का जाप करना हो तो उस स्थान को साफ करके ही बैठना चाहिए.

दिशा

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र का जाप करने के लिए पूर्व दिशा की ओर मुख करके बैठना चाहिए. अगर पूर्व दिशा की ओर व्यवस्था नहीं हो पा रही तो उत्तर दिशा की ओर मुख करके भी मंत्र जाप किया जा सकता है.

फोटो या चित्र

जिस स्त्री के ऊपर इस मंत्र का प्रयोग करना हो उसकी तस्वीर सामने होनी चाहिए. उसकी आंखों में देखते हुए ही मंत्र का जाप करें. मंत्र जाप शुरू करने से पहले फोटो के ऊपर अपना नाम लिख ले.

दिन और समय

इस मंत्र के सिद्धि की शुरूआत मंगलवार से करनी चाहिए. किसी और दिन से मंत्र जाप का प्रारंभ करने से कोई लाभ नहीं मिलता.

मंत्र जाप के लिए सुबह का समय तय करें. सूर्योदय से पहले का समय तय करें और 7 दिनों तक नियमित रूप से 21 बार मंत्र का जाप करे यानी कि मंगलवार से मंत्र सिद्ध करने की शुरुआत करें और सोमवार के दिन समाप्त करें.

मंत्र जाप के फायदें

कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र इतना प्रभावशाली है कि जिस स्त्री पर इसका प्रयोग करेंगे वो आपके किए तड़प उठेगी. उचित विधि से सिद्ध करने के बाद यह मंत्र चमत्कारिक रूप से काम करता है और स्त्री वश में हो जाती है. अगर पत्नी छोड़कर चली गई है तो शीघ्र ही वापस आ जाती है.

कामदेव को सम्पूर्ण पुरुष माना जाता है. इस मंत्र के सिद्धि के बाद आप उस स्त्री के लिए साक्षात कामदेव की तरह हो जाते है.

सावधानियां

इस मंत्र को सिद्ध करना सरल है पर कुछ सावधानियां बरतनी होती है. आईए आपको उन सावधानियों के बारे में जानकारी देते है.

सावधानियां

  • मंत्र जाप के दौरान साफ और धुले हुए वस्त्र ही धारण करें.
  • अगर गले में कोई माला हो तो उसे निकाल दें.
  • 21 बार मंत्र पढ़ने के दौरान बीच में अवकास ना ले. 21 बार मंत्र पढ़ने के बाद ही आसन से उठें.
  • मंत्र जाप के बाद फोटो को वापस उचित स्थान पर रखें.
  • पूरे 7 दिनों तक एक ही फोटो का प्रयोग करें.
  • इसका प्रयोग एक बार में एक ही स्त्री पर किया जा सकता है.

नोट: 18 साल से कम के लोग इस मंत्र का प्रयोग नहीं कर सकते और 18 साल से कम उम्र की महिलाओं पर इसका प्रयोग नहीं किया जा सकता.

प्रश्नोत्तर

हमारे शब्द

इस लेख में हमने आपको कामदेव स्त्री वशीकरण मंत्र की संपूर्ण जानकारी दी है. इस मंत्र को उचित विधि द्वारा ही सिद्ध करना चाहिए तभी लाभ मिलता है. गलत विधि से सिद्ध करने पर कोई लाभ नहीं होता. 18 साल से कम उम्र के बच्चों के लिए यह मंत्र नहीं है.

आशा है यह लेख आपको पसंद आया होगा. इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद.

Leave a Comment